River Naf

-Rajesh K. Jha You were a couple of millennia late, In crossing the Hindukush and Himalayas Otherwise, my friend, you were welcome with the Aryans. Why did you not, my brother, join the Caravan Of Huns, Shakas, Kushanas and others When they crossed the Indus, spread in the land? Sorry you are late and we… Continue reading River Naf

लैटिन अमरीकी कविताएं (चिली)

अनुवादः राजेश कुमार झा जॉर्ज टेलियर (1935-1996) जॉर्ज टेलियर को चिली के सर्वश्रेष्ठ कवियों में गिना जाता है। वे चिली के आधुनिक साहित्यिक परिदृश्य के स्तम्भ माने जाते हैं। टेलियर अवसाद और स्मृति को उकेरने वाले कवि के रूप में जाने जाते हैं लेकिन आनंद के बारे में लिखी हुई उनकी कविताएं भी उतनी ही बेहतरीन… Continue reading लैटिन अमरीकी कविताएं (चिली)

लैटिन अमरीकी कविता (मेक्सिको)

अनुवादः राजेश कुमार झा डेविड होर्ता की तीन कविताएं डेविड होर्ता (जन्म 1949) मेक्सिको के महानतम कवियों में गिने जाते हैं। वे अपनी कविताओ में बिंब और प्रतीकों के साथ ही बिलकुल असामान्य शब्दावली का इस्तेमाल करते हैं। होर्ता की कविताएं असाधारण और जटिल हैं। उनका मानना है कि वे परंपरागत शैली में कविता लिखते… Continue reading लैटिन अमरीकी कविता (मेक्सिको)

Clouds

-Rajesh K. Jha I hold a grudge against the clouds. It has teased me the entire day, darkening a corner of the sky and then disappearing, sprinkling a drop on the tip of my nose, thundering at a distance arousing hope that dissipates like good times. I bribe it with a flower, offer a servile… Continue reading Clouds

क्वामे दावेस की कविताएं (२)

घाना में पैदा हुए, जमैका में पले बढ़े क्वामे दावेस की कविताओं के अनुवाद की दूसरी किस्त जिसमें शामिल हैं उनकी चार अन्य कविताएं।