औरत/ नदी (उज्वला सामर्थ)

औरत/ नदी (उज्वला सामर्थ) (अनुवाद: राजेश कुमार झा) औरत हूँ मैं और इसीलिए नदी भी। बहती आई हूँ सदियों से, ढोती पीढ़ियों की गाद। झेली है मैंने टूटी उम्मीदों की बेशर्म चुभन, अचानक बेघर होने का दर्द, थकेमांदे लोगों का बुझा बुझा आक्रोश। लोरियां गाकर सुलाया है मैंने अपराधी अस्थि-पंजरों को, मगर साथ ही जानती… Continue reading औरत/ नदी (उज्वला सामर्थ)

माया एंजेलॉ की कविताएं

माया एंजेलॉ (1928-2014) प्रख्यात अमेरिकी अश्वेत कवयित्री। कविता के अलावा लेखन, नृत्य, अभिनय तथा गायन के क्षेत्र में भी महत्वपूर्ण योगदान। सात खंडों में प्रकाशित आत्मकथा ने इन्हें दुनिया भर में विशेष ख्याति दिलवाई। एंजेलॉ की रचनाएं अमरीका के अश्वेत लोगों की समस्याओं और अश्वेत संस्कृति के विभिन्न आयामों की एक सशक्त अभिव्यक्ति मानी जाती… Continue reading माया एंजेलॉ की कविताएं

Korean Snippets

Rajesh K. Jha The Lady who wanted to be Photographed with me It was a typically middle class market in Seoul. Perhaps something like the Sarojini Nagar or the Janpath market in Delhi which operate on the roadside. There were of course fancy shops on each side of the road but the real activity was on… Continue reading Korean Snippets